25-03-2017
09:41 am
=

क्रक्रप्टो-मद्रुा विश्लेषण

ताजा खबर

भारतीय बिटकॉइन कंपनियों को मोबाइल होना चाहिए।




कॉइनसिक्योर

आज कल ज़्यादातर लोग अपने मोबाइल फ़ोन के ज़रिये इंटरनेट का इस्तेमाल करने लगे है । भारतीय इंटरनेट और मोबाइल एसोसिएशन का एक रिपोर्ट के अनुसार, हमारे देश में अभी लगभग 16 करोड़ लोग अपने मोबाइल फ़ोन द्वारा इंटरनेट को इस्तेमाल कर रहे है। यह संख्या 2017 तक 30 करोड़ पर पहुँचने का अंदाजा लगाया गया है । इस रिपोर्ट के निष्कर्षों को बुनियाद बनाकर कई कंपनियाँ अपने ऑनलाइन व्यापार को वेबसाइट रूप से मोबाइल अप्प के रूप में परिवर्तित करने में लगे हुए है ।

दुनिया भर बिटकॉइन क्षेत्र में बहुत सी कंपनियाँ ने अपने वेबसाइट के साथ साथ मोबाइल अप्प बना रहे है। पर भारतीय बिटकॉइन कंपनियाँ इस विभाग में अब तक पीछा रह गया है । जेब-पे (ZebPay) के अलावा कोई भी बिटकॉइन कंपनी अब तक मोबाइल प्लेटफार्म पर अपने उपस्थिति स्थापित नहीं किया है। कॉइनसिक्योर (Coinsecure) और उनोकॉइन (Unocoin) भारत के दो प्रमुख बिटकॉइन कंपनियाँ है जिसके उपस्थिति अब तक वेब प्लेटफार्म तक सीमित है। अगर इन बिटकॉइन कंपनियों को ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुंचना है तो अपने ध्यान मोबाइल अप्प्स के ओर देना चाहिए । ज़्यादातर कस्बों और गांवों में लोग कंप्यूटर और ब्रॉडबैंड का इस्तेमाल नहीं करते है और उनके इंटरनेट से संपर्क केवल स्मार्टफोन के ज़रिये होता है। मोबाइल प्लेटफार्म पर नहीं उपस्थित होने के कारण बिटकॉइन कंपनियाँ इन लोगों तक पहुँचने में नाकामयाब रहे है। दूसरी ओर जेब-पे, केवल मोबाइल प्लेटफार्म पर उपस्थित होने के कारण अपने उनके प्रयोक्ताओं में विकाशन अनुभव कर रहा है।

हमारे राय के अनुसार, अगर भारतीय बिटकॉइन कंपनियों को बिटकॉइन के बारे में सरे लोगों को शिक्षित करना चाहते है तो उन लोगों तक पहुँच ने के लिए मोबाइल प्लेटफार्म का दत्तक ग्रहण करना चाहिए, वह भी बहुत जल्द।

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER

Read previous post:
वेन्सेस सिसारेस
वेन्सेस सिसारेस अब PayPal के बोर्ड पर

अग्रणी भुगतान कंपनी PayPal ने कुछ दिन पहले अपने कंपनी के बोर्ड पर प्रसिद्ध बिटकॉइन उद्यमी वेन्सेस सिसारेस (Wences Cesares)...

Close