25-03-2017
09:37 am
=

क्रक्रप्टो-मद्रुा विश्लेषण

ताजा खबर

बिटकॉइन (Bitcoin) को अपनाने में भारत को कितना समय लगेगा?




कॉइनसिक्योर, बिटकॉइन , भारत

बिटकॉइन (Bitcoin) के शुरुआत से अब थक 8 साल बीत गए है। इन 8 सालों में बिटकॉइन का अनुसरण पूरा विश्व में पहल गया है। हर एक जगह में बिटकॉइन का इस्तेमाल अलग-अलग तरह से किया जा रहा है और हर एक जगह में बिटकॉइन को  अनेक बाधाओं से झेलना पड़ रहा है। यह बाधाएं हर जगह के सामाजिक, आर्थिक और नियामक स्थितियों से सम्बन्धित है। भारत भी इस में कुछ काम नहीं, यहाँ पर बिटकॉइन के अनुसरण के खिलाफ सरकारी पाबंदियां नहीं है ,फिर भी लोगों को बिटकॉइन के बारे में जानकारी नहीं होने के वजह से इस डिजिटल करेंसी (digital currency) का इस्तेमाल बहुत काम है।

भारत में बिटकॉइन को आसानी से खरीदा और बेचा जा सकता है। अंतरराष्ट्रीय पूंजी नियंत्रण (Capital control) नियमों के अनुसार यहाँ के लोग बिटकॉइन को देश के बाहर के एक्सचेंज में बेच नहीं सकते। बिटकॉइन नियमों में स्पष्टता नहीं होने के वजह से भारतीय निवेशकों ने बिटकॉइन और उसके पीछे का तंत्र ज्ञान के ऊपर अब तक निवेशन नहीं किया है।

भारतीय बैंकों ने बिटकॉइन के ऊपर अब तक इतना दिलचस्पी नहीं दिखाएँ है, पर वही बैंकों ने एक से ज़्यादा अकसर पर ब्लॉकचेन (blockchain) तंत्र ज्ञान के बारे में और जानने का इच्छा प्रदर्शित किये है। इस हाल में भारतीय बिटकॉइन क्षेत्र को पूर्ण क्षमता हासिल करने में और 1-2 साल ज़रूर लगेगा। सरकार के तरफ से बिटकॉइन के ऊपर लागू होने वाला अनुशासनों के बारे में स्पष्टता मिलने पर यह और आसान बन जाएगा|

SUBSCRIBE TO OUR NEWSLETTER

Read previous post:
जेब-पे सूचना: MMM में निवेशन मत कीजिये!

जेब-पे (ZebPay), भारतीय मोबाइल बिटकॉइन वॉलेट कंपनी ने हाल ही में अपने ग्राहकों को MMM जैसे Ponzi योजनाओं से दूर...

Close